Upsarg Kise Kahate Hain

Upsarg Kise Kahate Hain? – जानिए उपसर्ग की परिभाषा, भेद और उदाहरण

Upsarg Kise Kahate Hain?, उपसर्ग किसे कहते हैं?, उपसर्ग के उदाहरण, उपसर्ग के प्रकार, Meaning of Upsarg in Hindi.

आज हम इस पोस्ट में एक महत्वपूर्ण विषय के बारे में जानेंगे, जिसका नाम उपसर्ग हैं। उपसर्ग किसे कहते हैं? यह बहुत कम छात्र/छात्राएं को पता होता हैं।

उपसर्ग विषय से सम्बंधित बहुत से प्रश्न आज-कल के सरकारी नौकरी वाले एग्जाम में पूछे जाते हैं। साथ ही साथ शब्द निर्माण की प्रक्रिया में इसका विशेष योगदान होता है।

इसलिए उपसर्ग के बारे में जानना आवश्यक हो जाता हैं। इस पोस्ट में हम जानेगे उपसर्ग किसे कहते हैं?, और उपसर्ग के कितने प्रकार होते हैं? तो आइये जानते है उपसर्ग इन हिंदी।

Upsarg Kise Kahate Hain? (उपसर्ग किसे कहते हैं?)

उपसर्ग की परिभाषा – भाषा के वे सार्थक लघुत्तम खंड जो शब्दों के शुरू में जुड़कर एक नए शब्द का निर्माण करते हैं, वह उपसर्ग कहलाते हैं।

उपसर्ग का शब्द निर्माण में बहुत योगदान होता हैं। नय शब्दों को बनाने के लिए शब्द के शुरू में कुछ शब्दांश जोड़े जाते है। जिन्हे हम उपसर्ग कहते हैं।

जैसे :-

  1. अधि+कार = अधिकार
  2. आ+हार = आहार
  3. अनु+भूति = अनुभूति
  4. प्र+चार = प्रचार
  5. प्रति+क्षण = प्रतिक्षण
उपसर्गयुक्त शब्द  उपसर्ग  मूल शब्द 
अधिकार अधि कार
दुर्भाग्य दुर भाग्य
बेहया बे हया
दुर्गम दुर गम

उपसर्गों के प्रयोग से 

  1. मूल शब्द में बदलाव आ जाता हैं।
  2. मूल शब्द के अर्थ में विशेषता आ जाती हैं।
  3. बहुत से उपसर्गों को स्वत्रंत रूप से उपयोग नहीं किया जा सकता हैं।

हिंदी भाषा में उपसर्ग के प्रकार 

हिंदी में तीन तरह के उपसर्गो का प्रयोग किया जाता है –

(क) हिंदी के उपसर्ग

(ख़) संस्कृत के उपसर्ग

(ग) उर्दू/फ़ारसी के उपसर्ग

हिंदी के उपसर्ग 

हिंदी उपसर्गो को तदभव उपसर्ग भी कहाँ जाता हैं। ये उपसर्ग संस्कृत के उपसर्गो से ही विकसित हुए हैं।

हमने नीचे कुछ उपसर्गो के उदाहरण, उनके अर्थ तथा उनसे बने शब्द निम्लिखित हैं –

हिंदी के उपसर्गो के उदाहरण 

उपसर्ग  अर्थ  उदाहरण 
बिन बिना बिनमाँगा, बिनकहा, बिनचाहा, बिनबात
दु रहित दुबला, दुकूल, दुगुना, दुविधा
भर भरा हुआ भरपूर, भरपेट, भरसक, भरपाई
सु/स सुन्दर सुकर्म, सुनंदा, सुफल, सुडोल, सुदिन, सपूत, सबल
नि रहित, नहीं निकम्मा, निधन, निदान, निडर
कू/क बुरा कुमार्ग, कुपुत्र, कुकर्म, कपूत
उन एक कम उनतीस, उनचास, उनसठ
हीन औघट, औगुन
अध आधा अधपका, अधमरा, अधखिला
रहित, अभाव अनाथ, अधर्म, अछूत, अज्ञान
अन निषेध अनजान, अनचाहा, अनबन, अज्ञान

संस्कृत के उपसर्ग 

हिंदी भाषा में कुछ ऐसे उपसर्गो का इस्तेमाल किया जाता हैं। जो संस्कृत से आये है। इन उपसर्गो से बने अनेक शब्द हिंदी में शामिल हैं। ये शब्द आज हिंदी के शब्द बन गए हैं। इन्हे तत्सम उपसर्ग भी कहते हैं।

नीचे कुछ संस्कृत के उपसर्ग, उनके अर्थ और उनसे बनने वाले शब्द दिए जा रहे हैं –

संस्कृत के उपसर्गो के उदाहरण 

उपसर्ग अर्थ  उदाहरण
तत उससे संबंधित तत्काल, तत्पर
स्व अपना स्वदेश, स्वराज, स्वाधीन
सम बराबर संबंध, संबोधन, संवाद
सु सूंदर/अच्छा सुपुत्र, सुदिन, सुलभ, सुगंध, सुचारु
वि विशेष विहार, विशेष, विकार, विचार,विरोध, विकास
परि चारों ओर परिधि, परिमाण, परिचय
पार उल्टा, पीछे पराजय, परभाव, पराधीन, पराभूत
प्रति सामने प्रतिकूल, प्रतिदीन, प्रतिविरोध
प्र अधिक, ऊपर प्रकार, प्रचार, प्रहार
अति अधिक, परे अतिशय, अतिरिक्त, अत्यंत
अधि ऊपर, समीप अधिकृत, अधिपति, अधिकार
अनु पीछे, सामने अनुभव, अनुचर, अनुराग, अनुरूप
अप हीन, बुरा, अपूर्ण अपमान, अपसर्ग, अपराध, अपशय
अव नीचे, हीन, बुरा अवतरण, अवरोध, अवगुण, अवनति
अभि सामने, पास, चारो ओर अभिमान, अभिप्राय, अभिलाषा, अभियोग
तक आमरण, आजीवन, आजन्म, आगमन
उप छोटा उपकार, उपनाम, उपहार, उपचार

उर्दू/फ़ारसी के उपसर्ग 

उर्दू/फ़ारसी या अन्य भाषाओ के उपसर्ग का हिंदी में प्रयोग किया जाता हैं। इन्हे विदेशी उपसर्ग भी कहाँ जाता हैं।

इस तरह के उपसर्ग, उनके अर्थ और उनसे बनने वाले कुछ शब्द निम्लिखित हैं –

उर्दू/फ़ारसी के उपसर्गो के उदाहरण 

उपसर्ग अर्थ  उदाहरण 
अल निश्चित अलबत्ता, अलमस्त, अलबेला
ऐन ठीक ऐनवक्त, ऐनमौका
नीम आधा नीमहकीम, नीमपागल, निमहोश
बिला बिना बिलाशर्त, बिलाकारण, बिलावजह
हर प्रत्येक हरदिन, हरसमय, हररोज, हरवक्त
हम साथ,समान हमसफ़र, हमदम, हमराज, हमजोली
ला रहित, बिना लापरवाह, लावारिस, लाइलाज
कम थोड़ा कमतर, कमज़ोर, कमअक्ल, कमउम्र
खुश प्रसन्न खुशदिल, खुशकिस्मत, खुशमिज़ाज
गैर बिना, रहित गैरमिजाज, गैरजरूरी, गैरकानूनी
दर में दरसल, दरहक़ीक़त, दरमियान
सहित बदसूरत, बदचलन, बदनाम
बा सहित, साथ बावजूद, बाकायदा, बाकायदा , बाइज्जत

अंग्रेजी के उपसर्ग 

उपसर्ग अर्थ  उदाहरण 
चीफ Chief चीफ-जस्टिस, चीफ-मिनिस्टर, चीफ-इंचार्ज
जनरल General जनरल-मैनेजर, जनरल-कमांडर, जनरल-मर्चेंट
डिप्टी Deputy डिप्टी-कलेक्टर, डिप्टी-चेयरमैन
वाइस Vice वाइस-चांसलर, वाइस-प्रिंसिपल, वाइस-चेयरमैन
सब Sub सब-कमांडर, सब-इंस्पेक्टर

दोस्तों आइये अब कुछ प्रश्न-अभ्यास से उपसर्ग (Upsarg) को समझते की कोशिश करते हैं। 

उपसर्ग (प्रश्न-अभ्यास) संख्या – 1 

(क) नीचे कुछ शब्द दिए गए है। इनमे से उपसर्ग और मूल शब्द अलग कर लिखिए –

उपसर्गयुक्त शब्द  उपसर्ग  मूलशब्द 
अधिकार अधि कार
दुर्भाग्य दुर भाग्य
बेहया बे हया
दुर्गम दुर गम
परलोक पर लोक
अत्यंत अति अंत
सुरक्षा सु रक्षा
निर्वाह निर वाह
विचार वि चार
उपचार उप चार
आरोहण रोहण
उपमान उप मान
अधिकृत अधि कृत
अनजान अन जान

उपसर्ग (प्रश्न-अभ्यास) संख्या – 2 

(ख़) नीचे कुछ शब्द दिए गए है। इनमे उचित उपसर्ग लगाकर शब्द निर्माण कीजिए –

  1. चित्र + वि = विचित्र
  2. रोध + अनु = अनुरोध
  3. हार + आ = आहार
  4. लभ + दुर = दुर्लभ
  5. भूति + अनु = अनुभूति
  6. गति + दुर = दुर्गति
  7. जान + अन = अनजान
  8. कार + बे = बेकार
  9. शय + सम =संशय

उपसर्ग (प्रश्न-अभ्यास) संख्या – 3 

(ग) नीचे कुछ उपसर्ग दिए गए है। इनके दो-दो शब्द बनाइए –

  1. अनु – अनुभव, अनुसार
  2. कम – कमसिन, कमजोर
  3. स्व – स्वराज, स्वचालित
  4. अप – अपयश, अपमान
  5. अन – अनबन, अनमना
  6. भर – भरपूर, भरसक
  7. ना – नादान, नासमझ
  8. परा – पराजय, पराश्रय
  9. अध – अधमरा, अधलिखा
  10. अव – अवरोध, अवधारणा
  11. हर – हरदिन, हररोज

उपसर्ग (प्रश्न-अभ्यास) संख्या – 4 

(घ) नीचे कुछ शब्द दिए गए है। इनमे से उपसर्ग, मूलशब्द अलग करके लिखिए –

  • अत्याचार = अति + आ + चार
  • प्रत्युपकार = प्रति + उप + कार
  • व्याकरण = वि + आ + करण
  • सुंसगठित = सु + सम + गठित
  • प्रत्यारोपण = प्रति + आ + रोपण

उपसर्ग (प्रश्न-उत्तर)

प्रश्न :- उपसर्ग किसे कहते हैं ?

उत्तर :- उपसर्ग उन शब्दांश को कहते हैं, जो किसी शब्द के प्रारम्भ में जुड़ कर एक नए शब्द का निर्माण करते हैं।

प्रश्न :- उपसर्ग के कितने भेद हैं ?

उत्तर :- उपसर्ग के तीन भेद है – हिंदी के उपसर्ग, संस्कृत के उपसर्ग, उर्दू-फ़ारसी के उपसर्ग।

प्रश्न :- उपसर्ग कहाँ लगता हैं ?

उत्तर :- उपसर्ग शब्दों के आगे लग कर नए शब्द का निर्माण करता हैं।

प्रश्न :- जीवन में उपसर्ग क्या हैं ?

उत्तर :- आ + जीवन = आजीवन

प्रश्न :- उपसर्ग Examples in Hindi

उत्तर :-

  • हम + साथ = हमसाथ
  • हम + सफर = हमसफ़र
  • मानव + ता = मानवता
  • राजा + कुमार = राजकुमार
  • वि + राट = विराट

प्रश्न :- संस्कृत उपसर्ग कितने होते है ?

उत्तर :- संस्कृत में 22 उपसर्ग होते है जैसे – अति, अधि, अन, अनु, अप, अव, अभि, आ, उत, उप, दुर, नि, प्र, परा, प्रति, वि, सु, स्व, आदि।

प्रश्न :- हिंदी में उपसर्ग कितने होते हैं ?

उत्तर :- हिंदी में कुल 11 उपसर्ग होते है जैसे – अ, अन, अध्, औ, उन, कु/क, नि, सु/स, भर, दु, बिन।

प्रश्न :- अंग्रेजी उपसर्ग के उदाहरण

उत्तर :- चीफ़-जस्टिस, जनरल-मैनेजर, हॉफ- डे, आदि।

प्रश्न :- अनपढ़ का उपसर्ग क्या हैं ?

उत्तर :- अन + पढ़ = अनपढ़

प्रश्न :- उर्दू में उपसर्ग की सांख्य कितनी हैं ?

उत्तर :- उर्दू में कुल 19 प्रकार के उपसर्ग होते हैं।

प्रश्न :- तत्सम उपसर्ग किसे कहते हैं ?

उत्तर :- संस्कृत के वह उपसर्ग जो हिंदी में शब्द बन गए हैं। इन्हे तत्सम उपसर्ग कहते हैं।

प्रश्न :- तद्भव उपसर्ग किसे कहते हैं ?

उत्तर :- हिंदी उपसर्गो को तद्भव उपसर्ग भी कहते हैं।

प्रश्न :- विदेशी उपसर्ग किसे कहाँ जाता हैं ?

उत्तर :- उर्दू/फ़ारसी के उपसर्ग शब्दांश को विदेशी उपसर्ग कहते हैं।

यह भी पढ़िए :-

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top