What is Computer in Hindi?

[Ultimate Guide] What is Computer in Hindi? | कंप्यूटर क्या होता है?

What is Computer in Hindi?, How do computer work?, Parts of computer in Hindi, Definition of Computer in hindi (कंप्यूटर क्या है?, कंप्यूटर कैसे काम करता हैं?, कंप्यूटर के लाभ और हानि)

Computer की आकर्षक दुनिया में आपका स्वागत है। Computer न केवल आकर्षक मशीन हैं, बल्कि बहुत ज़्यदा उपयोगी भी हैं। आज हमारे जीवन का शायद ही कोई कोना कंप्यूटर से अछूता रह गया हो। स्कूलों, बैंकों, किराना दुकान, अस्पतालों, सरकारी दफ्तरों, ट्रैवल कंपनियों के रिजर्वेशन काउंटरों, होटलों और हर जगह हमें कंप्यूटर मशीन का इस्तेमाल करते हुए लोग दिख जाएंगे।

Statista के रिपोर्ट के अनुसरा 2019 तक लगभग  47.1 % घरों में कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है और यह आकड़ा हर वर्ष बढ़ता रहता है। इससे ही आप अंदाजा लगा सकते है की कंप्यूटर की उपयोगिता कितनी हो सकती हैं।

सभी कंप्यूटर दिखाई नहीं नहीं देते हैं। कुछ मशीनों में छोटे समर्पित कंप्यूटर लगे होते हैं, जिन्हें एम्बेडेड कंप्यूटर (Embedded Computers) कहा जाता है। जो हमें दिखाई नहीं देते हैं। ये एम्बेडेड कंप्यूटर पर्दे के पीछे काम करते हैं। उदाहरण के लिए आपके पास कम्यूटर नियंत्रित कार, वाशिंग मशीन, टीवी आदि हो सकते हैं।

दिखाई देने वाले कंप्यूटरों में सबसे लोकप्रिय पर्सनल कंप्यूटर (Personal Computer) हैं, क्योंकि उनकी कीमत सस्ती है। हम मोटे तौर पर इन कंप्यूटर को निम्नलिखित समूहों में वर्गीकृत कर सकते हैं, जैसे की –

1) Supercomputers (for example, Cray-1)

सुपरकंप्यूटर का उपयोग आमतौर पर Weather Forecasting, Nuclear Research, आदि जैसे Complex कामों के लिए किया जाता हैं।

2) Mainframe Computer (for example, IBM 360/370)

मेनफ्रेम कंप्यूटर का उपयोग बड़ी कंपनियां अपने डेटा के प्रबंधन के लिए करती हैं।

3) Minicomputers (for example, DEC PDP 11/45)

मिनी कंप्यूटर का उपयोग भी बड़ी कंपनियां अपने डेटा के प्रबंधन के लिए करती हैं।

4) Personal Computers (for example, IBM PC)

व्यक्तिगत कंप्यूटर मुख्य रूप से छोटी कंपनियों, परिवारों और व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं द्वारा उपयोग किए जाते हैं। समय बीतने के साथ, पर्सनल कंप्यूटर बहुत शक्तिशाली हो गए हैं और यहां तक कि बड़ी कंपनियां भी अब उनका उपयोग कर रही हैं।

कंप्यूटर किसे कहते है?

कंप्यूटर का नाम सुनते ही हम सभी के मस्तिष्क में Monitor, CPU, Mouse की आकृति बनती है । क्योकि Monitor, Mouse, Keyboard, और Central Processing Unit को मिलाकर एक कंप्यूटर बनता है।

कंप्यूटर की परिभाषा हर व्यक्ति के उयोगिता के अनुसार अलग-अलग हो सकती है।

कंप्यूटर एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जो User द्वारा दिए गए Input Command को Data के Format में Output देता है।

कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र है जिसका इस्तेमाल हम मेल भेजने, फ़ोटो एडिटिंग, डाटा की गणना या फिर किसी महत्वपूर्ण डाटा को लम्बे समय तक रखने के लिए कर सकते है। आज के समय मे मुश्किल से मुश्किल कार्यो को भी कंप्यूटर की मदद से किया जा रहा हैं।

कंप्यूटर फुल फॉर्म इन हिंदी एंड इंग्लिश 

C :- Commonly

O :- Operated

M :- Machine

P :- Particularly

U :- Used

T :- Teaching

E :- Education

R :- Research

कंप्यूटर कैसे काम करता है?

कंप्यूटर मुख्य तीन तथ्यों पर काम करता है पहला Input Data, दूसरा Data Processing और तीसरा है Output Data.

Input Data – Processing Data – Output Data

कंप्यूटर इनपुट डेटा को स्वीकार करता हैं, उस डेटा को प्रोसेस करता हैं और आउटपुट डेटा को रिजल्ट के रूप में वापस करता हैं। इनपुट डेटा को स्वीकार करने और आउटपुट डेटा वापस करने के लिए, कंप्यूटर विभिन्न उपकरणों से लैस है। डेटा इनपुट करने के लिए उपयोग किए जाने वाले कीबोर्ड, माउस, पेन ड्राइव, स्कैनर आदि हैं।

कंप्यूटर के अंदर एक सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट होती है जो इनपुट डेटा को प्रोसेस करती है और आउटपुट डेटा लौटाती है।

Parts of Computer (कंप्यूटर के हिस्से)

कार्यात्मक रूप से, एक कंप्यूटर में दो भाग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर होते हैं। कंप्यूटर के इनपुट, आउटपुट डिवाइस सहित, भौतिक भागों को हार्डवेयर कहा जाता है। और निर्देशों के सेट के साथ सभी डेटा को सॉफ्टवेयर कहा जाता है।

(1) Motherboard :- अपने नाम के अनुरूप, यह बहुत महत्वपूर्ण सर्किट बोर्ड है। जिसमें कंप्यूटर के प्रत्येक प्लग लगाए जाते हैं। सीपीयू, रैम आदि यूनिट मदरबोर्ड में ही संयोजित रहती हैं।

(2) CPU :- सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट एक वास्तविक वर्कहॉउस है, यह शायद कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। सभी गणनाएं वास्तव में सीपीयू द्वारा की जाती हैं इसलिए इसे कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है।

(3) Ram Chips :- प्राइमरी मेमोरी को रैंडम एक्सेस मेमोरी भी कहा जाता है। रैम चिप्स प्राइमरी स्टोरेज के लिए होते हैं। सामान्य भाषा में इसे कंप्यूटर का याददाश्त कहते हैं। इसकी गणना मेगाबाइट्स (इकाई) से होती है। आज के समय में एक विशिष्ट पीसी में डीडीआर, या डीडीआर2 प्रकार की 1 जीबी रैम होती है।

(4) Hard Disk :- आज, एक सामान्य कंप्यूटर 80 जीबी, 160 जीबी या 320 जीबी क्षमता की हार्ड डिस्क से लैस होता है। हार्ड डिस्क सेकेंडरी स्टोरेज के लिए होती है। इसमें कंप्यूटर के लिए प्रोग्रामों को स्टोर करने का कार्य होता हैं।

(5) Keyboard :- कंप्यूटर कीबोर्ड कुछ हद तक टाइपराइटर कीबोर्ड के समान है। कंप्यूटर की लेखन प्रणाली के लिए उपयोग में लाया  वाला उपकरण कीबोर्ड कहलाता है।

(6) Monitor :- कुछ दशक पहले, कम्यूटर थे, लेकिन मॉनिटर नहीं थे। आज, बिना मॉनिटर के कंप्यूटर की कल्पना करना कठिन है। मॉनिटर एक टेलीविजन की तरह दिखता है। मॉनिटर को स्क्रीन, डिस्प्ले यूनिट भी कहा जाता है। लगभग, आप जो कुछ भी कीबोर्ड का उपयोग करके टाइप करते हैं वह स्क्रीन पर प्रदर्शित होता है।
आज LCD मॉनिटर का उपयोग किया जाता है। एक विशिष्ट एसवीजीए (सुपर वीडियो ग्राफिक्स ऐरे) मॉनिटर का रिज़ॉल्यूशन 1024 × 768 पिक्सल है। इसका मतलब है, स्क्रीन पर चित्र ग्रिड में विभाजित है जिसमें 1024 लंबवत रेखाएं और 768 क्षैतिज रेखाएं हैं। इस ग्रिड पर एक सेल को पिक्सेल कहा जाता है।

(7) Mouse :- कीबोर्ड की तरह, माउस एक इनआउट डिवाइस है। एक माउस में दो बटन होते हैं। ज्यादातर समय हम लेफ्ट बटन का इस्तेमाल करते हैं। माउस को माउस पैड पर रखें और उसे धीरे-धीरे घुमाएँ। जैसे ही आप माउस को घुमाते हैं, माउस कर्सर भी स्क्रीन पर चलता है। माउस कर्सर के अलग-अलग आकार हो सकते हैं लेकिन माउस कर्सर का सबसे लोकप्रिय आकार पॉइंटर है। इसकी सहायता से स्क्रीन पर कंप्यूटर के विभिन्न प्रोग्रामों को संचालित किया जाता हैं।

Language of Computer (कंप्यूटर की भाषाएँ)

कंप्यूटर की भाषा को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया हैं।

  1. Machine Code Language
  2. Assembly Code Language
  3. Hight Level Languages

Machine Code Languages :- इस भाषा में प्रत्येक आदेश के दो भाग होते हैं। आदेश कोड (Operation Code) तथा सिथति कोड (Location Code)  इन दोनों को 0 व 1 के क्रम में समूहित कर व्यक्त किया जाता है। कंप्यूटर के आरंभिक दिनों में प्रोग्रामर द्वारा कंप्यूटर को आदेश देने के लिए 0 तथा 1 के विभिन्न क्रमो का ही प्रयोग किया जाता था। यह भाषा समायग्राही थी, जिसके कारण दूसरी भाषाओ का प्रयोग किया जाने लगा।

Assembly Language :- इस भाषा में याद रखे जाने लायक कोड का प्रयोग किया गया, जिसे नेमोनिक कोड कहा जाता हैं। जैसे ADDITION के लिए ADD, SUBSTRACTION के लिए SUB तथा JUMP लिए JMP लिखा गया। परन्तु इस भाषा का प्रयोग एक निश्चित संरचना वाले कंप्यूटर तक सिमित था।

Hight Level Languages :- इस भाषा के विकास का श्रेय IBM कंपनी को जाता है। FORTRAN नमक पहली उच्च स्तरीय भाषा का विकास इसी कंपनी के प्रयास से हुआ। ये भाषाएँ मनुष्य के बोलचाल और लिखने में प्रयुक्त होने वाली भाषओ के काफी क़रीब हैं।

  • फोरट्रॉन (FORTRAN) : कंप्यूटर की इस भाषा का विकास IBM के सौजन्य से 1957 ई.  में किया था।  इस भाषा विकास गणितीय सूत्रों को आसानी से और कम समय में हल करने के लिए किया गया था।
  • कोबोल (COBOL ) : यह भाषा वास्तव में कॉमन बिज़नेस ओरिएंटेड लैंग्वेज का संक्षिप्त रूप हैं। इस भाषा का विकास व्यावसायिक हितों के लिए किया गया किया।
  • बेसिक (BASIC) : यह अंग्रजी के शब्दों All-Purpose Symbolic Instruction Code का संक्षिप्त रूपांतर है।
  • ऐल्गॉल (ALGOL) : यह अंग्रेजी के अल्गोरिथिम लैंग्वेज का संक्षिप्त रूप है। इसका निर्माण जटिल बीजगणितीय गणनाओ में प्रयोग हेतु बनाया गया है।
  • COMAL : यह Common Algorithm Language का संक्षिप्त रूप है।  इस भाषा का प्रयोग माध्यमिक स्तर के छात्रों के लिए किया जाया है।
  • LOGO : इस भाष  का प्रयोग छोटी उम्र के बच्चों को ग्राफ़िक कि शिक्षा देने के लिए किया जात्ता हैं।
  • FORTH : इस भाषा का अविष्कार चार्ल्स मुरे ने किया था।  इसका उपयोग कंप्यूटर के सभी प्रकार के कार्यो में होता हैं।

Computer Abbreviations

ALU Arithmetic Logic Unit
ALGOL Algorithmic Language
ASCII American Standard Code for Symbolic Instruction Code
BASIC Beginner’s All Purpose Symbolic Instruction Code
BCD Binary Code Decimal Code
CPU Central Processing Unit
CAD Computer Aided Design
C-DOT Centre for Development of Telematics
CLASS Computer Literacy and Studies in School
COMAL Common Algorithim Language
DOS Disk Operating System
DTS Desk Top System
DTP Desk Top Publishing
ENIAC Electric Numerical Integrator and Computer
FAX Far Away Xerox
Flops Floating Operations Per Second
HLL High Level Language
HTML Hyper Text Markup Language
ISH Information Super Highway
LAN Local Area Network
LDU Liquid Displayed Unit
LISP List Processing
LLL Low Level Language
MICR Magnetic Ink Character Reader
MIPS Milions of Instruction Per Second
MOPS Milions of Operation Per Second
MODEM Modulator-Demodulator
NICNET National Information Centre Network
OMR Optical Mark Reader
PC-DOS Personal Computer Disk Operating System
PROM Programmable Read Only Memory
RAM Random Access Memory
ROM Read Only Memory
RPG Report Program Generator
SNOBOL String Oriented Symbolic Language
VDU Visual Displayed Unit
VLSI Very Large Scale Integration
WAN Wide Area Network
WWW World Wide Network
COMPUTER Common Operating Machine Purposely used for Technological and Educational research

Facts About Computer in Hindi

कंप्यूटर से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

⇒ चार्ल्स बेबेज को कंप्यूटर का पितामह कहा जाता हैं।

⇒ वॉन न्यूमेन का कंप्यूटर के विकास में अधिक योगदान है।

⇒ आधुनिक कंप्यूटर की खोज सर्वप्रथम 1946 ई. में हुई।

⇒ कंप्यूटर के छेत्र में महान क्रांति 1960 ई. में आई।

⇒ विश्व में सवर्धिक कंप्यूटर वाला देश United State of America है।

⇒ Computer Education का अर्थ है – कंप्यूटर क्या कर सकता है और क्या नहीं कर सकता, इस बात की जानकारी होना।

⇒ कंप्यूटर के एक भाग से दूसरे भाग में Signal भेजने वाले Electronic Path को Bus कहते हैं।

⇒ ICMP का इस्तेमाल Error Reporting के लिए किया जाता हैं।

⇒ 2 दिसंबर कंप्यूटर साक्षरता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

⇒ भारत का प्रथम Computerized Post Office नई दिल्ली का है।

⇒ भारत में बनाया गया सबसे पहले कंप्यूटर का नाम सिद्धार्थ है जिसको Electronic Corporation of India द्वारा बनाया गया।

⇒ भारतीय जनता पार्टी भारत की पहली ऐसी पार्टी हैं, जिसने इंटरनेट पर अपना वेबसाइट बनाया है।

⇒ क्या आपको पता है कंप्यूटर तीन प्रकार के होते है – डिजिटल, एनालॉग, हाइब्रिड।

⇒ वह कंप्यूटर जो Automatic Data Analysis करता है, उसे Digital Computer कहते है।

⇒ Integrated Circuit Chip का विकास जे. एस. किल्बी ने किया है।

⇒ कंप्यूटर के चुम्ब्कीय डिस्क पर आयरन ऑक्साइड की परत होती है।

⇒ आप सब WWW (World Wide Web) को तो सब जानते है, लेकिन क्या आपको पता है इसके खोजकर्ता टिम  बर्नर्स ली है।

⇒ एक कंप्यूटर की स्मृति सामान्य तौर से किलोबाइट अथवा मेगाबाइट के रूप में व्यक्त की जाती है।

⇒ किसी कंप्यूटर या उसके हार्ड डिस्क या किसी चलते हुए कार्यक्रम (प्रोग्राम) का अचानक खराब या बंद हो जाना कंप्यूटर की भाषा में उसे क्रैश(Crash) कहते हैं।

⇒ इंडिया में सबसे पहले National Aeronautics Laboratory (Bengaluru) ने फ्लोसावर नामक Super Computer बनाने में सफलता प्राप्त की।

⇒ पुणे के सी-डैक (C-DAC) के वैज्ञानिक ने 28 मार्च, 1998 को प्रति सेकंड एक खरब गणना करने की क्षमता से युक्त कंप्यूटर परम-10000 का निर्माण किया।

⇒ कंप्यूटर की अशुद्धियों को Bug कहा जाता है।

⇒ 1 किलोबाइट (KB) 1024 बाइट का तुल्य होता है।

⇒ 1 मेगाबाइट (MB) 1024 KB के बराबर होता है।

⇒ 1 गीगाबाइट (GB) 1024 MB के बराबर होता है।

⇒ World का सबसे पहला Digital Computer ENIAC था।

⇒ इंटेरनेट से जुड़ा वह संगणक जहा विशेष प्रकार की सूचनाएं उपलब्ध हो उसे साइट (Site) कहते है।

⇒ 32 कम्प्यूटरों  के बराबर कार्य कर सकने वाला डीप ब्ल्यू कंप्यूटर एक सेकंड में शतरंज की 20 करोड़ चाल सोच सकता है। इसी सुपर कंप्यूटर ने विश्व  चैम्पियन गैरी कास्परोव को पराजित किया था।

⇒ सामन्य कंप्यूटर की उपेक्षा 10 गुना तेजी के काम करने वाले कंप्यूटर को सुपर कंप्यूटर कहते है।

⇒ Tianhe-2  (चीन) विश्व कण सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर हैं।

कंप्यूटर से हम क्या कर सकते हैं?

Storage : कंप्यूटर की मदद से हम अपने महत्वपूर्ण फाटो, वीडियो, डाटा को आसानी से लम्बे समय तक कंप्यूटर की हार्डडिस्क में सुरक्षित रख सकते है। और आवश्यकता पर उसे निकाल भी सकेते हैं।

Data Analysis : लगभग सभी कंप्यूटर में Excel, Tally जैसे सॉफ्टवेयर होते है जिनका यूज़ करके हम कठिन से कठीन न्यूमेरिकल डेटा को जाँच परख सकते हैं। कॉपी पेन की मदद से डेटा एनालिसिस करना बहुत कठिन और अधिक समय भी लगता है। लेकिन कंप्यूटर में आपको सिर्फ डेटा को डालना होता है और उस डेटा से आप जो करना चाहते है वह कंप्यूटर को कमांड देना होता है।

Editing : कम्प्यूटर पर आसानी से वीडियो और फ़ोटो एडिटिंग किया जा सकता है। इसीलिए लगभग सभी फ़िल्मकार अपनी फल्मों को कंप्यूटर पर एडिट करना पसंद करते है।

कंप्यूटर का लाभ क्या है?

  1. कंप्यूटर का इस्तेमाल कर हम आसानी से किसी भी काम को कर सकते है जैसे कि E-Mail करना आदि।
  2. कंप्यूटर के इस्तेमाल हम मनोरंजन के लिए भी कर सकते है। इस पर हम ऑनलाइन मूवीज़ या फिर ऑनलाइन वेब सीरीज आसानी से देख सकते है।
  3. कंप्यूटर में आप किसी भी डेटा को आसानी से स्टोर कर सकते है और कभी भी किसी भी समय इस डेटा का उपयोग भी कर सकते है।
  4. कंप्यूटर एक बहुत अच्छा संचार का माध्यम है। हुम् इसके जरिये दूर देश मे वीडियो कॉलिंग से बात कर सकते है।
  5. कंप्यूटर द्वारा हम किसी भी बड़ी संख्या को जोड़ना, घटाना, गुणा तथा भाग कर सकते है।
  6. कंप्यूटर के माध्यम से हम ऑनलाइन पढ़ाई या ऑनलाइन ज्ञान भी ले सकते है।
  7. सरकारी एग्जाम के फॉर्म, कॉलेज फॉर्म्स, और भी बहुत से फॉर्म हुम् कंप्यूटर द्वरा ऑनलाइन भर सकते है।
  8. जो काम हम अपने दिमाग से 1 घंटे में कर सकते वह वह कंप्यूटर के मदद से हम कुछ ही मिनटों में कर सकते है।
  9. कंप्यूटर से हम घर बैठे बैंकिंग के काम जैसे कि पैसे ट्रांसफर करना, उपलब्ध राशि का पता करना जैसे चीजे भी आसानी से कर सकते है।
  10. कंप्यूटर द्वारा पैसे भी कमाया जा सकता है आज के समय मेअगर आपके पास एक कंप्यूटर या लैपटॉप है तो आप 1 लाख रुपये महीना आसानी से कमा सकते है।
  11. कंप्यूटर के इस्तेमाल से आप एक वेबसाइट याएंड्राइड एप्लीकेशन बना सकते है।
  12. यदि आपको कंप्यूटर की बहुत अच्छी ज्ञान है तो आप सरकारी या प्राइवेट नौकरी कर सकते है।

कंप्यूटर से हानि क्या हैं?

  1. जहाँ कंप्यूटर का उपयोग बढ़ रहा है वहाँ पर बेरोज़गार भी उतपन्न हो रही है। क्योंकि बड़ी बड़ी कंपनीज में अब लगभग सभी काम कंप्यूटर से किया जाता है।
  2. कंप्यूटर एक ऐसा यन्त्र हैं, जो गलत काम के लिए उपयोग किया जाए तो बहुत ज्यादा नुकशान हो सकता है।
  3. दिन भर कंप्यूटर के पास बैठने से हमारी आँखों और सर में दर्द हो सकता है। यानी अधिक इस्तेमाल से हमारा स्वास्थ खराब हो सकता है।
  4. कंप्यूटर को हैक करना आसान भी नही है और मुशिकल भी नही है इसलिए कंप्यूटर में मौजूद डेटा चोरी हो सकता है।
  5. कंप्यूटर के आने के बाद लोग छोटी से छोटी कामो को अब उसी पर करते है जिससे हम अपनी आत्मनिर्भरता को कम कर रहे है।

आज आपने क्या सीखा?

इस पोस्ट में हमने आपको कंप्यूटर का परिचय दिया है। मुझे आशा है की आप सभी को कंप्यूटर क्या है? (What Is Computer In Hindi) मालूम चल गया होगा। यदि अब आपसे कोई कंप्यूटर से सम्बंधित प्रश्न जैसे की कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया था?, कंप्यूटर से क्या लाभ है?, कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है? आदि पूछे तो आप बहुत सरलता से उसका जवाब दे सकते हैं।

यदि आपको यह लेख पसंद आया हो और इससे कुछ नया सिखने को मिला है, तो इस पोस्ट को ज़्यदा से ज़्यदा शेयर करें। धन्यवाद !

यह भी पढ़िए :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top